CTET Exam Pattern and Syllabus 2018 For Paper 1st and Paper 2nd in Hindi Pdf

हेलो दोस्तों , कैसे है आप उम्मीद है ठीक होंगे । जैसे की आप सभी को मालूम ही है की हम GyanBox पर परीक्षा संबधी सामग्री शेयर करते है । आज हम आपके साथ CTET Exam सम्बंधित सारी जानकारी साँझा करेंगे । अगर अपने भी CTET की परीक्षा के लिए आवेदन किया है तो उसके लिए आपको हार्दिक शुभकामनाए । तो मुझे उम्मीद है की आप CTET परीक्षा की तैयारी अच्छे से कर रहे होंगे । तो आज हम आपके साथ CTET Exam pattern and Syllabus 2018 के बारे में विष्तार से बतायेगे । तो हमारी इस पोस्ट को अंत तक पढ़े ।

CTET Exam Pattern and Syllabus 2018 For Paper 1st and Paper 2nd in Hindi Pdf 1

CTET Exam Pattern and Syllabus 2018 For Paper 1st and Paper 2nd in Hindi

CTET Exam में कुल दो पेपर होते है.

Paper-1 : यह पेपर उन अभ्यर्थियों के लिए है जो कक्षा 1से कक्षा 5 तक के अध्यापक बनने की इच्छा रखते है.

Paper-2 : यह पेपर उन अभ्यर्थियों के लिए है जो कक्षा 6 से कक्षा 8 तक के अध्यापक बनने की इच्छा रखते है.

जो उम्मीदवार दोनों का यानी कक्षा 1 से 5 तथा कक्षा 6 से 8 अध्यापक बनाना चाहता है. तो उस अभ्यर्थी को दोनों परीक्षा देना होगा.

पेपर 1st और पेपर 2nd दोनों ही बहुविकल्पिक होंगे.

दोनों ही पेपर में Negative Marking नहीं होंगे, इसका मतलब अगर परीक्षा में हम कोई गलत उत्तर देते है तो उसके लिए कोई अतिरिक्त नम्बर नही काटें जायेंगे.

CETE Exam Pattern Paper 1st

       SubjectsTotal MarksTotal QuestionsDuration
Child Development & Pedagogy       30         302 Hours 30 min
Mathematics       30         30
Language – 1       30         30
Language – 2       30         30
Environmental Studies       30         30
          Total      150        150

 

CETE Exam Pattern Paper 2nd

 SubjectsTotal Marks   Total   Questions  Duration
Child Development & Pedagogy      30        302 Hours 30 min
Language – 1      30        30
Language – 2      30        30
Science & Mathematics or Social Science      60        60
 Total      150       150

2nd Paper का Last Subject में Science & Mathematics का अलग पेपर होगा और Social Science का अलग, दोनों ही विषय के पेपर 60-60 नम्बर के होंगे. छात्रो को इन दोनों विषयों में से किसी एक विषय के ही पेपर देने होंगे.

CTET Exam Syllabus Paper 1 & 2 :-

(1) Child Development & Pedagogy.

[A] Child Development Topic :- (15 marks)

Development concepts.
Influence of heredity and environment.
Principles of the development of children.
Socialization processes.
Piaget,kohl berg and vygotsky .
critical perspective of the construct of intelligence.
Multidimensional intelligence.
Language & thought.
Gender as a social construct.
Concepts of child-centered & progressive education.
Distinction B/W assessment for learning and assessment of learning.
Formulating appropriate questions for assessing readiness levels of learners.

[B] concept of inclusive education :- (05 Questions)

Addressing the creative,talented,specially abled learners,addressing the requirements of children with learning ‘impairment’,difficulties,addressing learners from diverse backgrounds.

[C] Learning and pedagogy :- (10 Questions)

Factors contributing to learning- personal and environmental.
Child as a problem solver and a ‘scientific investigator’.
How children think and learn.
Basic processes of teaching and learning.
Cognition & emotions.
Motivation and learning.

(2) Language -1
इस प्रश्न पत्र में कुल ३० प्रश्न होंगे प्रत्येक प्रश्न के लिए 1 अंक निर्धारित हैं. कुछ महत्वपूर्ण topics हम आपको बता रहे हैं जो इस प्रश्न पत्र में पूछा जायेगा.

Language comprehension: (15 Questions)
इस में Grammar, verbal ability और unseen passages पूछा जाता हैं और यह पार्ट 15 अंको का होगा .

Pedagogy of language development :- (15 Questions)
इसमे विभिन्न टॉपिक्स है जो की 15 अंको का होगा.

Principles of language teaching.
Role of speaking & listening.
Acquisition
language skills.
Remedial teaching.

(3) Language -2

कुल 30 प्रश्न प्रत्येक प्रश्न के लिए 1 अंक हैं.

Language comprehension: (15 Questions)
इस पार्ट से 15 अंक निर्धारित है.

Topic:-

Grammar
verbal ability
unseen passages
Comprehension
Pedagogy of language development :- (15 Questions)
यह 15 अंको का प्रश्न पत्र है.

Principles of language teaching.
Role of speaking & listening.
Acquisition
Evaluating language comprehension.
Proficiency and Remedial teaching.

(4) Mathematics

Numbers
Volume
Data handling
Geometry
Patterns
Solids around
Addition and subtraction
Time
Division
Measurement
Weight
Community mathematics
Money
Evaluation through formal and informal methods
Language of mathematics
Diagnostic and remedial teaching

(5) Environmental studies

Animals,
PLants
Relationships
Work and play
Scope & relation to science and social science
Concept and scope of evs
Significance of evs integrated evs
Approaches of presenting concepts
Activities
Experimentation/practical work
Discussion environmental studies & environmental education.
Learning principles.

एक अध्यापक किसी भी समाज को शिक्षित बनाने में अपना बहुत बड़ी भूमिका निभाता है. हमारा कल कैसा होगा यह एक अध्यापक भलीभांति समझता है . आपके इसी सपने को साकार करने में और समाज में शिक्षक के योगदान को और अधिक महत्वपूर्ण बनाने हेतु आज का हमारा पोस्ट आपके लिए उपयोगी साबित होगा.